Breaking News

राजस्थान पुलिस के थानागाजी पुलिस स्टेशन के थानेदार यानी थाना प्रभारी को अलवर गैंगरेप केस में लापरवाही का दोषी पाए जाने के बाद मंगलवार को सस्पेंड कर दिया गया है. पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) कपिल गर्ग ने थानेदार को मामला सामने आने के बाद शुरुआती कार्रवाई करने में देरी के चलते निलंबित करने के आदेश जारी किए हैं. उधर, इस शर्मनाक वारदात को अंजाम देने वाले पांच आरोपियों में से 1 को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. शेष चार आरोपियों की धरपकड़ के लिए पुलिस की 14 टीमें जगह-जगह दबिश दे रही हैं. अलवर जिले के थानागाजी इलाके में युवती के साथ गैंगरेप और अश्लील वीडियो सोशल मीडिया पर अपलोड करने का यह मामला 26 अप्रैल का है. 2 मई को थानागाजी थाने में आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था. पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई तब की जब सोमवार 6 मई को अश्लील वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गए.मामला बढ़ता देख मंगलवार को जयपुर में डीजीपी कपिल गर्ग ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके जानकारी दी गई. उन्होंने बताया कि गैंग रेप मामले में एक आरोपी युवक को गिरफ्तार लिया गया है और अन्य की तलाश की जा रही है. उन्होंने बताया कि पीड़िता का मेडिकल मुआयना कराने के बाद आगे की कार्रवाई की जा रही है. उधर, अलवर में शादीशुदा युवती से पति के सामने गैंगरेप की वारदात उजागर होने के दूसरे दिन मंगलवार को भरतपुर में ऐसा ही शर्मनाक मामला सामने आया है. यहां बयाना इलाके में नाबालिग लड़की को घर में अकेला पाकर उसे अगवा करने और फिर जंगल में गैंगरेप किया गया. यह शर्मनाक घटना बयाना थाना के खुशफेहम गांव की बताई जा रही है.