Breaking News

लोकसभा चुनाव खत्म होने के बाद राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) के नेताओं का आज जमावड़ा लगने वाला है. अमित शाह ने एनडीए के सभी साथियों को डिनर पर बुलाया है. इसमें खासतौर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी मौजूद रहेंगे. इसके अलावा जेडीयू अध्यक्ष और बिहार के सीएम नीतीश कुमार, एलजेपी अध्यक्ष रामविलास पासवान, उद्धव ठाकरे समेत कई नेता भी शाह के दावत में शिरकत कर रहे हैं. जेडीयू की ओर से आरसीपी सिंह और केसी त्यागी भी बीजेपी अध्यक्ष के घर पहुंच रहे हैं.

NDA की डिनर पार्टी 23 मई को लोकसभा चुनाव परिणाम सामने आने से दो दिन पूर्व होने जा रही है. यह इसलिए भी महत्वपूर्ण है कि अधिकतर एग्जिट पोल्स में एनडीए की जीत बताई जा रही है.
बताया जा रहा है कि दिल्ली के अशोका होटल में आयोजित होने वाले इस डिनर के लिए खास इंतजाम किए गए हैं. मेहमानों के लिए 35 प्रकार के व्यंजन परोसे जाएंगे. डिनर में अलग-अलग राज्यों से एनडीए के नेता आएंगे. ऐसे में उनके राज्यों के व्यंजन को मेन्यू में शामिल किया गया है. डिनर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शिरकत करेंगे इसलिए खास तौर से कई गुजराती व्यंजनों को भी शामिल किया गया है.

एग्जिट पोल में एनडीए की बंपर जीत का अनुमान
एग्जिट पोल में भी बिहार में एनडीए की बंपर जीत बताई जा रही है और 34 से 36 सीटें मिलने का अनुमान लगाया गया है. बताया जा रहा है कि डिनर के दौरान सहयोगियों से गठबंधन की रण्नीति को लेकर भी बात की जा सकती है.

हालांकि सीएम नीतीश के करीबियों के बारे में कहा जाता है कि वे एनडीए की बैठक में तबतक शामिल नहीं होते जब तक पीएम मोदी मौजूद नहीं रहते हैं, लेकिन यह सत्य से परे है, क्योंकि जब सीटों को लेकर जेडीयू और बीजेपी में खींचतान थी तो वे रामविलास पासवान के साथ अमित शाह से ही मिले थे. इसके पहले भी वे कई बार अमित शाह से अकेले में रणनीति पर चर्चा कर चुके हैं

नीतीश ने कहा-आएगा तो मोदी ही
चुनाव खत्म होने के बाद सीएम नीतीश के हाल के बयानों पर गौर करें तो यह साफ है कि धारा 370, 35A, कॉमन सिविल कोड जैसे मुद्दों पर खुलकर बीजेपी से अपनी अलग राय रख रहे हैं. हालांकि पूरे चुनाव के दौरान उन्होंने इसपर कुछ नहीं बोला था. यहां तक कि उनकी पार्टी ने घोषणापत्र तक जारी नहीं किया. अब बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिए जाने की मांग भी जेडीयू की ओर से उठाई जा रही है.