Breaking News

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने पहले टेस्ट मैच में वेस्टइंडीज पर मिली विशाल जीत के बाद पूरी टीम की जमकर सराहना की. भारत ने 'मैन आफ द मैच' अजिंक्य रहाणे (102) के शतक के बाद तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह (7 रन पर 5 विकेट) की तूफानी गेंदबाजी के दम पर मेजबान वेस्टइंडीज को 318 रनों से करारी मात दी. यह सीरीज विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप के तहत खेली जा रही है. दो टेस्ट मैचों की सीरीज के पहले टेस्ट में जीत दर्ज कर उसने पूरे 60 अंक हासिल कर लिये हैं.

कोहली ने इस जीत के बाद कहा, 'जिंक्स (अजिंक्य रहाणे) राहुल दोनों ने दोनों पारियों में शानदार बल्लेबाजी की. हनुमा विहारी ने भी अच्छा साथ दिया. हमें मैच में 3-4 बार वापसी करनी पड़ी. खिलाड़ियों का भार मैनेज करना हमारे लिए बहुत अहम है, इसीलिए वह (बुमराह) विश्व कप के बाद सफेद गेंद क्रिकेट नहीं खेले. हम चाहते थे कि वह इस टेस्ट सीरीज में तरोताजा होकर मैदान पर आएं, वे हमारे लिए टेस्ट चैम्पियनशिप के लिए खास खिलाड़ी हैं.'

वेस्टइंडीज को मात देकर कोहली बने 'द बेस्ट', धोनी की बराबरी, गांगुली छूटे पीछे

भारत के 419 रनों के लक्ष्य के जवाब में वेस्टइंडीज ने लंच तक 15 रनों के अंदर ही अपने पांच विकेट गंवा दिए थे. लंच के बाद मेजबान टीम 85 रन और जोड़कर 100 रन पर ढेर हो गई और उसे 318 से करारी हार का सामना करना पड़ा. भारत की टेस्ट क्रिकेट में यह चौथी सबसे बड़ी जीत है. वहीं, घर के बाहर उसकी यह सबसे बड़ी जीत है. इससे पहले विदेशी धरती पर भारत को 304 रनों से सबसे बड़ी जीत मिली थी, जब उसने 2017 में गॉल में श्रीलंका को मात दी थी.

कप्तान ने कहा, 'ये तीनों (बुमराह, ईशांत और शमी) बढ़िया गेंदबाजी ग्रुप के तौर पर सामने आए हैं. हम अपने बॉलिंग संयोजन से खुश हैं. यह संयोजन इसी आधार पर है कि कौन से खिलाड़ी एक से ज्यादा स्किल्स दिखा सकते हैं. यह सब टीम चयन पर हमेशा ही विचार में रखे जाते रहेंगे. यह एक जिम्मेदारी है जिसे मैं पूरी कर रहा हूं और यह खुशकिस्मती है कि में टीम में एक से ज्यादा जिम्मेदारी में योगदान दे पा रहा हूं.'

उन्होंने कहा, 'टीम के बिना कुछ भी संभव नहीं है. मैं फैसले लेता हूं, लेकिन उन्हें लागू करना होता है. हम पर दबाव रहेगा और हमें और मजबूत होने की जरूरत है. हम एक-दूसरे की सफलता का आनंद ले रहे हैं और यही अहम है. हमें इस मैच में हुई कमियों को दूर कर और मजबूत होने की जरूरत है.'