Breaking News

जिनेवा: संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद का 42वां सत्र आज से जिनेवा में शुरू हो रहा है. इस सत्र में भारत और पाकिस्तान कश्मीर मुद्दे पर आमने-सामने होंगे. इस वैश्विक मंच पर भारत की पूरी कोशिश पाकिस्तान का चेहरा बेनकाब करने की होगी. भारत की तरफ से वरिष्ठ राजनयिक अजय बिसारिया बैठक में देश का पक्ष रखेंगे और पाकिस्तान की सच्चाई को दुनिया के सामने लाएंगे. वहीं, पाकिस्तान की तरफ से खुद वहां के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी और पूर्व विदेश सचिव तहमीना जंजुआ इस सम्मेलन में भाग लेंगे. संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के 42वें सत्र की बैठक 27 सितंबर तक चलेगी.

जानकारी हो कि पाकिस्तान कश्मीर मुद्दे को लेकर संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद पहुंचा है. पाकिस्तान के इस प्रयास को रोकने और उसके असली चेहरे को दुनिया के सामने लाने के लिए वरिष्ठ राजनयिक अजय बिसारिया के नेतृत्व में गई टीम को काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है. यह टीम यहां मानवाधिकार परिषद की बैठक में पाकिस्तान में हो रहे जबरन धर्म परिवर्तन से लेकर गिलगित-बाल्टिस्तान में मानवाधिकारों के उल्लंघन का मामला उठाएगी.

फजीहत के बाद भी कश्मीर राग अलाप रहा पाकिस्तान

जानकारी हो कि पाकिस्तान को बार-बार वैश्विक मंच पर कश्मीर मुद्दे पर फजीहत का सामना करना पड़ा है. इसके बावजूद पाकिस्तान ने कोई सीख नहीं ली है और वह लगातार कश्मीर राग अलाप रहा है. जम्मू कश्मीर मुद्दे को पाकिस्तान ने 16 अगस्त को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में उठाया था. पाकिस्तान यहां कश्मीर मसले पर एक विशेष सत्र की मांग कर रहा था, लेकिन वह जरूरी 16 वोट पाने में विफल रहा.

कश्मीर मसले पर विशेष सत्र बुलाने में मिली नाकामयाबी के बाद भी पाकिस्तान कश्मीर पर एक विशेष चर्चा या भारत के खिलाफ एक प्रस्ताव लाने का छद्म प्रयास कर रहा है. पाकिस्तान के पास इन दोनों विकल्पों पर नोटिस देने के लिए 19 सितंबर तक का समय है. हालांकि, इस बैठक में भारतीय राजनयिक अजय बिसारिया पाकिस्तान का पर्दाफाश करने के लिए तैयार हैं.