Breaking News

जिनेवा. UNHRC में पाकिस्तान (Pakistan) का दिन आज बहुत कठिन जा रहा है. कश्मीर (Kashmir) का मुद्दा उठाने UNHRC पहुंचे पाकिस्तान को भारतीय अधिकारी सच का आईना दिखाने का कोई अवसर नहीं छोड़ रहे हैं. भारत की ओर से विदेश मंत्रालय की सेक्रेटरी (पूर्व), विजय ठाकुर सिंह (Vijay Thakur Singh) ने कश्मीर के मुद्दे पर पाकिस्तान की ओर से लगाए गए आरोपों के जवाब में डांट खाने के बाद अब भारत की ओर से विदेश मंत्रालय के फर्स्ट सेक्रेटरी विमर्श आर्यन (Vimarsh Aryan) ने भी पाकिस्तान को खूब लताड़ा.

UNHRC में रात साढ़े नौ बजे भारत पाकिस्तान के आरोपों का उत्तर देते हुए भारतीय विदेश मंत्रालय के फर्स्ट सेक्रेटरी विमर्श आर्यन ने भारत की ओर से पाकिस्तान के झूठे दावों को खारिज किया. विमर्श आर्यन ने कहा जम्मू-कश्मीर भारत का आंतरिक मामला था, है और रहेगा. विमर्श आर्यन ने कहा पाकिस्तान फोरम का ध्रुवीकरण करने की कोशिश कर रहा है.


कश्मीर भारत का आतंरिक मामला
UNHRC में MEA के प्रथम सचिव विमर्श आर्यन ने कहा अनुच्छेद 370 (Article 370) भारतीय संविधान (Indian Constitution) का एक अस्थायी प्रावधान था, इसका हालिया संशोधन हमारे संप्रभु अधिकार के भीतर है और पूरी तरह से भारत का आंतरिक मामला है. विमर्श आर्यन ने कहा- पाकिस्तान ने जम्मू-कश्मीर में हमेशा जेहाद को प्रोत्साहित किया है. आर्यन ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान के दखल को भारत बर्दाश्त नहीं करेगा

विमर्श आर्यन ने कहा हम इस मंच का राजनीतिकरण और ध्रुवीकरण करने के उद्देश्य से झूठे आख्यानों के साथ पाकिस्तान के उन्मादपूर्ण बयानों पर आश्चर्यचकित नहीं हैं. पाकिस्तान को लग रहा है कि है कि हमारे फैसले से सीमा पार आतंकवाद के निरंतर प्रायोजन में बाधाएं पैदा हो रही है जिससे उसके पैरों के नीचे से जमीन खिसक गई है.