Breaking News

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच लंदन के केनिंगटन ओवल में खेले गए आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप 2019 के मैच में कंगारू खिलाड़ी एक बार फिर से बॉल टेंपरिंग के शक के घेरे में आ गए हैं. दरअसल, मैच के दौरान ऑस्ट्रेलियाई लेग स्पिनर एडम जाम्पा अपनी ट्राउजर की जेब से कुछ निकालकर बॉल को रगड़ते दिखाई दिए. सोशल मीडिया पर इस वायरल वीडियो को देखने के बाद सवाल उठ रहे हैं कि क्या जाम्पा बॉल टेंपरिंग कर रहे थे. हालांकि अब तक कुछ साफ नहीं हुआ है.

वीडियो में दिख रहा है कि जाम्पा ने अपनी जेब से कुछ निकाला और उसे गेंद पर रगड़ा. दरअसल, भारतीय पारी के 14वें और 23वें ओवर के दौरान दो वीडियो वायरल हुए. जिसमें जाम्पा को अपने हाथों को जेब में डालते हुए और उसके बाद फिर गेंद को किसी चीज से रगड़ते देखा गया. बाद में उन्होंने उस चीज को वापस अपनी ट्राउजर की जेब में रख लिया. हालांकि अभी तक जाम्पा के इस कारनामे पर अधिकारिक रूप से कोई पुष्टि नहीं हुई है. इसलिए वीडियो के बारे में कुछ भी कहना गलत होगा. लेकिन इस तरह के दृश्य को देखने के बाद एक बार फिर कंगारू खिलाड़ियों की खेल भावना पर सवाल खड़े होते हैं.

जाम्पा का यह वीडियो वायरल होने के बाद सैंडपेपर गेट की बुरी यादें फिर से ताजा हो गई हैं. मार्च 2018 में जब ऑस्ट्रेलियाई टीम साउथ अफ्रीका दौरे पर गई थी, तो केपटाउन टेस्ट में ऑस्ट्रेलियाई ओपनर कैमरुन बेनक्रॉफ्ट बॉल टेंपरिंग (Ball Tampering) करते हुए पकड़े गए. बेनक्रॉफ्ट को मैच के दौरान अपने ट्राउजर से पीले रंग की चीज निकालते देखा गया. टीवी रीप्ले में देखा गया कि बेनक्रॉफ्ट को गेंद के आकार को बिगाड़ने के लिए जेब से टेप जैसे ऑब्जेक्ट का इस्तेमाल करते देखा गया, जिसे उन्होंने बाद में अपनी ट्राउजर में छिपाने की कोशिश की.

टेप को सैंडपेपर में बदलकर इसका इस्तेमाल बेनक्रॉफ्ट ने गेंद को एक तरफ से खुरदरा करने के लिए किया था, ताकि गेंदबाजों को स्विंग मिले. इस घटना के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में ऑस्ट्रेलिया के कप्तान स्टीव स्मिथ ने बॉल टेंपरिंग की बात मानी. बॉल टेंपरिंग की घटना के कुछ ही घंटे बाद ऑस्ट्रेलियाई सरकार ने सीए से स्टीव स्मिथ को कप्तानी से हटाने के लिए कहा था.