Breaking News

Pro Kabaddi League 2019: तीन बार प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल) खिताब जीत चुकी पटना पाइरेट्स टीम बीते सीजन में चौथी बार खिताब से चूक गई थी, लेकिन आगामी सातवें सीजन में पटना एक बार फिर ट्रॉफी जीतने के लिए प्रतिबद्ध है. टीम के कप्तान और स्टार खिलाड़ी प्रदीप नरवाल ने कहा है कि इस बार उनकी टीम दोबारा चैम्पियन बनने की कोशिश करेगी लेकिन इसे लेकर न ही उन पर और न ही टीम पर किसी तरह का दबाव है क्योंकि वह यह मानते हैं कि यह दबाव में आने का नहीं बल्कि खुद को साबित करने का वक्त है.पटना की टीम इस समय ग्रेटर नोएडा में अभ्यास शिविर मे मेहनत कर रही है और अपने खेल को अगले स्तर पर ले जाने में लगी हुई है. प्रदीप ने कहा कि बेशक टीम पिछली बार ट्रॉफी नहीं जीत पाई हो लेकिन इस बार अपनी कमजोरियों पर काम कर वे दोबारा चैम्पियन बनने के लिए पहले से ज्यादा प्रतिबद्ध हैं.प्रदीप ने कहा, "इस सीजन में न तो मेरे ऊपर और न ही टीम के ऊपर किसी तरह का दबाव है. हम दबाव लेना भी नहीं चाहते. हम चैम्पियन जरूर रह चुके हैं, लेकिन अब हम इस सीजन फिर से एक नई शुरुआत करना चाहते हैं. हम अपने आप को साबित करना चाहते हैं और दिखाना चाहते हैं कि हम दोबारा खिताब जीत सकते हैं."स्टार खिलाड़ी होने के नाते दबाव होने के सवाल पर प्रदीप ने कहा, "बतौरा आइकन खिलाड़ी मेरे ऊपर किसी तरह का दबाव नहीं है, बल्कि यह मुझे और अच्छा करने के लिए प्रेरित करता है. यह मुझे मेरी जिम्मेदारियों का अहसास दिलाता है." बीते सीजन पटना की हार की एक मुख्य वजह उसका कमजोर डिफेंस था. टीम के कोच राम मेहर सिंह इस बात से वाकिफ हैं और इसलिए वह इस पर काम कर रहे हैं.प्रदीप ने कहा, "इस बार हमारा डिफेंस काफी मजबूत है. हमारे कोच ने रीडेर को काफी मजबूत किया है. हम अपने डिफेंस पर काम कर रहे हैं. 15-20 दिन का कैम्प शुरू हो गया है. मैं और पूरी टीम कैम्प में कोच की देखरेख में काफी मेहनत कर रही है."अपने डिफेंस को मजबूत करने के लिए पटना इस सीजन डिफेंडर नीरज कुमार को 44.75 लाख रुपये में खरीदा है. इस पर प्रदीप ने कहा, "हम अच्छे खिलाड़ी लेंगे तो हमारी टीम अच्छी होगी. नीरज उसी रणनीति का हिस्सा है. टीम प्रबंधन ने उन्हें कुछ सोच समझकर ही खरीदा है."बीते सीजन टीम प्लेऑप में जगह बनाने से चूक गई थी. 22 मैचों में 11 हार और दो टाई के साथ 55 अंकों की सहायता से वह जोन-बी में चौथे नंबर पर ही रही थी. पिछले सीजन पर प्रदीप ने कहा, "यह तो खेल है, हार-जीत चलती रहती है. यह हर टीम के साथ होता है. हमारे कुछ खिलाड़ी चोटिल हो गए थे जिससे हमारे प्रदर्शन पर असर पड़ा और इसी कारण से हम अच्छी शुरुआत से मिली लय को कायम नहीं रख पाए थे. हमने पिछले सीजन से काफी कुछ सीखा है."कबड्डी में नरवालों के वर्चस्व के बारे में प्रदीप ने कहा कि उनके गांव में इस खेल के अलावा कोई और खेल नहीं खेला जाता. डुबकी किंग के नाम से मशहूर प्रदीप ने कहा, "कबड्डी को लेकर हमारे गांव में नरवालों में काफी जुनून है. हम बचपन से ही कबड्डी खेलते हैं और काफी प्रेक्टिस करते हैं. हमारे गांव में कबड्डी के अलावा कोई और खेल नहीं खेला जाता. नरवाल एक भी दिन आराम नहीं करते और अपना सब कुछ कबड्डी को ही समझते हैं." लीग का यह सातवां सीजन 20 जुलाई से शुरू हो रहा है.