मेडिकल स्टोरों पर बेखोप बिक रहा नशा,प्रशासन की साठगांठ से चलता है सब कारोबार

Nov 09,2017, 05:11 AM

मदनलाल@पण्डितांवाली(हनुमानगढ़) पीलीबंगा उपखंड क्षेत्र के ग्रामीण इलाकों में सभी मेडिकल स्टोरों पर संचालकों के द्वारा नशे का कारोबार जोरों पर है सरेआम बिकती है नशे की गोली प्रशासनिक अधिकारी के साथ साठगांठ सांठ में होता है कारोबार गोली मतलब दवाइयों के धंधे में गोलमाल कलदार कमाई जा रहे हैं पीलीबंगा कस्बे में तो नशीली दवाइयों की बड़ी खेप पकड़ने के मामले सामने आ चुके हैं ये यदपि ओषधि नियंत्रण विभाग तथा पुलिस समय समय पर कार्यवाही तो करते हैं इसके बावजूद भी गड़बड़झाले पर लगाम नहीं लगती है मजे की बात तो यह है कि ओषधि नियंत्रण विभाग मेडिकल स्टोर पर कार्यवाही तो कर लेता है लेकिन विभागीय कार्यवाही के रूप में कुछ नहीं होता शिवायः साठ गाठ के। जिसके चलते ग्रामीण इलाकों में युवाओं को आत्महत्या के पीछे नशे की ही लत का परिणाम मिलता है ग्रामीण इलाकों में तो 18 वर्ष से कम आयु के लड़कों को भी इस धंधे में शामिल किया गया है 18 वर्ष से कम आयु के युवा वर्ग के हो चुके हैं युवाओ को नशेंओं के कारण आत्महत्या का मार्ग अपनाना पड़ता है सुबह से लेकर शाम तक मेडिकल स्टोर पर नशे की गोलियां लेने के लिए खड़े रहते हैं इसका सेवन से पूरे दिन भर गल्लियो में पड़े रहते हैं मेडिकल वालों ने देश के भविष्य के निर्माण को अपने पंजे में जकड़ रखा है युवा वर्ग ईस दल दल में चले गए हैं और पुलिस विभाग व संबंधित विभागिय अधिकारी आँखे बंद करके बैठे है  नशीली दवाइयों की यह दुकानदारी अधिकृत मेडिकल स्टोर से लेकर घरों तक में चल रही है। शहर की ही बात करें तो कई मेडिकल स्टोर के हाल ही औचक निरीक्षण में नशीली दवाइयों का रिकॉर्ड गड़बड़ मिला था। जबकि टाउन के प्रेमनगर, रूपनगर, जंक्शन के आईटीआई बस्ती, सुरेशिया आदि कई इलाकों में स्थित घरों से लंबे समय से नशीली दवाइयों का धंधा चल रहा है। पुलिस भी इससे अनभिज्ञ नहीं है। जिला मुख्यालय के अलावा संगरिया, पीलीबंगा, पण्डितांवाली गोलूवाला, टिब्बी कस्बे तथा उनके आसपास के कई गांवों में भी कमोबेश यही हाल है। संगरिया व पीलीबंगा कस्बे से लेकिन विभागीय जब कभी पुलिस के साथ संयुक्त कार्रवाई होती है तो कुछ हाथ नहीं लगता।औषधि नियंत्रण विभाग के आंकड़ों के अनुसार फार्मासिस्ट की गैर हाजिरी, दवाइयों का विक्रय विवरण नहीं होना, बिल व रिकॉर्ड में गड़बड़ी तथा कई अन्य मापदंडों के उल्लंघन के चलते वर्ष 2013-14 में 72 मेडिकल स्टोर के लाइसेंस निलम्बित तथा छह के निरस्त किए गए थे। जबकि 2014-15 में 141 स्टोर के लाइसेंस निलम्बित व 32 लाइसेंस निरस्त किए गए। मगर जो निलम्बन व लाइसेंस निरस्त का आधार बनी, उनके पीछे के कारणों को समझने का कभी प्रयास नहीं किया गया। मोटे तौर पर नशीली दवाइयों का धंधा इसकी वजह से पनप रहा है आए दिन मौत का ताडण्व नशे का कारण माना जा रहा है।

News Next

रमेश मेघवाल@घड़साना(श्रीगंगानगर)कल कस्बे के व्यापार मंडल में किसान संघर्ष समिति के बैनर तले एकत्रित  हो कर शिमला नायक के नेतृत्व में एक सभा का आयोजन किया गया । सभा के बाद

अमेश बेरड़@ओसिया(जोधपुर)कस्बे के बाहर खेतेश्वर सर्कल के पास प्रातः बोलेरो व ट्रक के आमने सामने हूई जबरदस्त भिडंत मे बोलेरो सवार एक महिला व युवक की हुई मोके पर ही मौत तथा तीन

Previous News

तुषार पुरोहित@सिरोही।गुजरात राज्य के अंबाजी में गुरुकृपा ज्वेलर्स नाम की दुकान से चोरी करने का है मामला इस मामले में एक नाबालिग समेत चार लोगों को अंबाजी पुलिस ने

रमेश मेघवाल@घड़साना(श्रीगंगानगर)घड़साना में आईजीएनपी नहर परियोजना के प्रथम चरण सिंचाई का पानी चार में दो ग्रुप की मांग   को लेकर ब्लॉक कांग्रेस कमेटी द्वारा एसoड़ीo एमo

Thought Of The Day

"साहस मानवीय गुणों में प्रमुख है क्योंकि ….ये वो गुण है जो बाकी सभी गुणों की गारंटी देता है "

विंस्टन चर्चिल


राशिफल
  • Pisces (मीन)

  • Aquarius (कुंभ)

  • Capricorn (मकर)

  • Sagittarius (धनु)

  • Scorpio (वृश्चिक)

  • Libra (तुला)

  • Virgo (कन्या)

  • Leo (सिंह)

  • Cancer (कर्क)

  • Gemini (मिथुन)

  • TAURUS (वृष)

  • ARIES (मेष)

poll

भारत में चुनाव बैलेट पेपर पर होने चाहिए या ईवीएम मशीन पर