हड़बोलो ने डेरा डाला, युवा पीढ़ी के लिए कौतूहल का विषय

Dec 03,2017, 06:12 AM

सुरेश सिंह पंवार@चौमहला(झालवाड़)चौमहला कस्बे में इन दिनों हड़बोलो ने डेरा डाल रखा जो युवा पीढ़ी के लिए कौतूहल का विषय है।हड़बोलो के मुँह सुनी थी कहानी खूब लड़ी थी  वो झांसी वाली रानी इतिहास के पन्नो में हे।

कड़कड़ाती सर्दी के आगोश में लिपटे सर्दी के इस मौसम में इन दिनों में पो फटते ही किसी पेड़ से राम भक्ति से ओतप्रोत भजन वाली अथवा जीवन की क्षणभंगुरता का एहसास करा सांसारिक आडंबरों पर आघात सी करने वाली कबीर रचनावली कि मधुर आवाज सुन नई पीढ़ी के राह चलते युवा कुतूहल समझकर भले ही इधर उधर देखने लग जाए पर पुरानी पीढ़ी के लोग इस बुंदेली बोली को सुन समझ जाते हैं कि आज पेड़ पर हरबोलों ने डेरा डाला है और वह मान मनौवल के साथ आर्थिक भर्ती होने से पहले नीचे उतरने वाला नहीं है।

आज भी मानते हैं हरबोलों के महत्व को-इन दिनों खंडवा जिला क्षेत्र से आए हरबोलों के समूह ने कस्बे में अपनी आमद दे रखी है और इनकी यह उपस्थिति कहीं चौका रही है तो कहीं सामाजिक सहकारिता और सदस्यता के भाव को संभल भी प्रदान कर रही है सन 1857 के स्वतंत्रता संग्राम में अंग्रेजों से लोहा लेने वाली झांसी की रानी लक्ष्मीबाई की अपने लोक गायन से किसी न किसी रूप में मदद कर हरबोलों के रूप में उभरने वाले इन लोगों की भूमिका कालांतर में बदलते सामाजिक परिवेश में भले ही गुन रह गई हो परंतु अतीत को जानने वाले लोग आज भी हरबोलों के महत्व को पूरा मान-सम्मान यथोचित निधि देना नहीं भूलते।

गांव गांव में जाकर करते  लोग गायन- खंडवा जिले के काशीपुर से राजस्थान के चोमेला कस्बे में आए कृष्ण बिलावर ने रविवार सुबह हमारे प्रतिनिधि से चर्चा के दौरान बताया कि आजादी के लिए अंग्रेजों से लड़ने वाली झांसी की रानी लक्ष्मीबाई के पक्ष में जन जागरण के उद्देश्य हमारे पूर्वज गांव गांव ढाणी ढाणी जाकर लोक गायन किया करते थे कालांतर में यही हरबोला कहलाए पर रानी लक्ष्मी बाई की मौत के बाद यह सभी लोग बुंदेलखंड से निकल प्रदेश के अनियंत्रित भागों में बसते गए हरबोलों के रूप में अपनी भूमिका का निर्वहन जीवन यापन के लिए पीढ़ीगत रूप से कर रहे हैं।

मकर सक्रांति तक क्षेत्र में घूमते हैं- कृष्ण बिलावल ने बताया कि दिसंबर माह से मकर सक्रांति पर्व तक हम शहरी क्षेत्रों में घूमते रहते हैं वर्ष के शेष दिनों में गांव ढाणी खेलों में हर बोले बंद कर जाते हैं और लोगों द्वारा दी जाने वाली आर्थिक बैंक से गुजारा करते हैं इन दिनों गांव में आज भी गांव के पटेल द्वारा अनुदान के रूप में दक्षिणा देखकर हमें पेड़ से उतारा जाता है पर शहरी क्षेत्रों में लोग स्वेच्छा से जो भी राशि दे उसे हम संस्था से स्वीकार कर लेते हैं।

News Next

महेन्द्र बिरामी@डांगियावास(जोधपुर)ई मित्रा संचालकों पर मनचाहे पलटी लगा देना तब चाहे किसी भी अधिकारी का निरीक्षण करवाना और अब ई मित्रा संचालकों को पेपर पास अनिवार्य किये

कमल सिंह रतनू@उदयपुर।भींडर पुलिस को मिली मुखबीर की सूचना के बाद बड़ी मात्र में गुजरात लेकर जा रही विभिन ब्रांड की शराब बरामद की भींडर SHO  हिमांशु सिंह राजावत औऱ एक हैड

Previous News

यूपी निकाय चुनाव के परिणाम आने के बाद EVM पर सवाल उठाने वाली सहारनपुर से पार्षद प्रत्याशी शबाना की पोल खुल गई है. उसने आरोप लगाया था कि उसे एक भी वोट नहीं मिला है. इस बात पर सवाल

विद्या बालन की फिल्म 'तुम्हारी सुलु' को दर्शकों का तो बहुत प्यार मिल रहा है, लेकिन फिल्म को लेकर एक विवाद खड़ा हो गया है. दरअसल, फूड एंड ड्रग एसोशिएसन ने टी-सीरीज को फिल्म

Thought Of The Day

"साहस मानवीय गुणों में प्रमुख है क्योंकि ….ये वो गुण है जो बाकी सभी गुणों की गारंटी देता है "

विंस्टन चर्चिल


राशिफल
  • Pisces (मीन)

  • Aquarius (कुंभ)

  • Capricorn (मकर)

  • Sagittarius (धनु)

  • Scorpio (वृश्चिक)

  • Libra (तुला)

  • Virgo (कन्या)

  • Leo (सिंह)

  • Cancer (कर्क)

  • Gemini (मिथुन)

  • TAURUS (वृष)

  • ARIES (मेष)

poll

राजस्थान में किसकी सरकार आनी चाहिए ?