जानिए क्यो 50 फीसदी कामकाजी महिलाओं को महज 30 साल की उम्र मे छोड़नी पड़ती है नौकरी

Apr 28,2018, 13:04 PM

डेस्क: देश में 50 फीसदी कामकाजी महिलाओं को महज 30 साल की उम्र में अपने बच्चों की देखभाल करने के लिए नौकरी छोड़नी पड़ती है। अशोका यूनिवर्सिटी के जेनपैक्ट सेंटर फॉर वूमेंस लीडरशिप (जीसीडब्ल्यूएल) द्वारा बुधवार को 'प्रिडिकामेंट ऑफ रिटर्निग मदर्स' नाम से जारी एक रिपोर्ट में बताया गया है कि मां बनने के बाद महज 27 फीसदी महिलाएं ही अपने करियर की और आगे बढ़ पाती हैं और वह कार्यबल का हिस्सा बनी रहती हैं।

एक रिपोर्ट के मुताबिक बताया गया है कि भारत में सिर्फ 16 फीसदी महिलाएं ही अपने करियर में वरिष्ठ नेतृत्व अर्थात सीनियर लीडरशिप की भूमिका हासिल कर पाती हैं। रिपोर्ट में कार्यस्थल पर महिला-पुरुष के बीच भेदभाव की बात भी सामने आई है। यह रिपोर्ट कामकाजी महिलाओं की चुनौतियों पर करवाए गए एक अध्ययन के आधार पर तैयार की गई है।

रिपोर्ट जारी करने के मौके पर यूनिवर्सिटी की जेनपैक्ट सेंटर फॉर वूमेंस लीडरशिप की निदेशक हरप्रीत कौर का कहना है कि 'भारतीय कार्यबल का झुकाव पुरुषों के प्रति ज्यादा होता है और महिलाओं के साथ भेदभाव होता है। हालांकि कार्यबल में महिलाओं के प्रवेश के द्वारा खुले रहते हैं मगर बाहर निकलने के भी रास्ते साथ ही जुड़े होते हैं। गर्भावस्था, बच्चों का जन्म, बच्चों की देखभाल, वृद्धों की देखभाल, पारिवारिक समर्थन की कमी और कार्यस्थल का परिवेश आदि कई कारक हैं, जो महिलाओं को बाहर के रास्ते दिखाते हैं और अग्रणी भूमिका निभाने से रोकते हैं।' रिपोर्ट में कॉरपोरेट, मीडिया और विकास क्षेत्र में काम करने वाली शहरी क्षेत्र की महिलाओं को शामिल किया गया था।

News Next

नई दिल्ली-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिवसीय चीन दौरे पर है। पीएम मोदी का आज दूसरा दिन है। पीएम मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने प्रसिद्ध ईस्ट लेक के किनारे सैर की

मुबई: पिछले साल अप्रैल के आख़िरी शुक्रवार को रिलीज़ हुई बाहुबली2 ने शानदार ओपनिंग ली थी, इसलिए अप्रैल को बाहुबली महीना कहा जाता है। इस बार हॉलीवुड फ़िल्म Avengers Infinity War ने

Previous News

चंडीगढ़। कौशल विकास एवं उद्यमिता के क्षेत्र में हरियाणा ने नया मुकाम हासिल किया है। पढ़ाई के तुरंत बाद अप्रेंटिस के मामले में हरियाणा, देश के सामने रोल-मॉडल स्टेट बनकर

नई दिल्ली: मलेरिया एक जानलेवा बीमारी है और इस बीमारी के आतंक से होने वाली मौतों में भारत चौथे स्थान पर है। मलेरिया के शुरूआती लक्षणों को कभी नज़रअंदाज़ न करें। फ्लू, बुखार और

Thought Of The Day

"साहस मानवीय गुणों में प्रमुख है क्योंकि ….ये वो गुण है जो बाकी सभी गुणों की गारंटी देता है "

विंस्टन चर्चिल


राशिफल
  • Pisces (मीन)

  • Aquarius (कुंभ)

  • Capricorn (मकर)

  • Sagittarius (धनु)

  • Scorpio (वृश्चिक)

  • Libra (तुला)

  • Virgo (कन्या)

  • Leo (सिंह)

  • Cancer (कर्क)

  • Gemini (मिथुन)

  • TAURUS (वृष)

  • ARIES (मेष)

poll

राजस्थान में किसकी सरकार आनी चाहिए ?