सीजफायर हुआ खत्म,कश्मीर में फिर से शुरू होगा सेना का ऑपरेशन ऑलआउट

Jun 17,2018, 22:06 PM

(जम्मू-कश्मीर)। रमज़ान का पाक महीना खत्म हुआ और खत्म हुई इसी के साथ केंद्र सरकार द्वारा जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों के ऑपरेशन पर लगी हुई पाबंदी भी। पूरे एक महीने जिस शांति के मकसद से गृहमंत्रालय ने इस कोशिश को आगे बढ़ाया था, उसपर आतंकियों ने अपने नापाक मंसूबों से पानी फेर दिया। और इसी के साथ आज से फिर घाटी में सेना का ऑपरेशन ऑलआउट नए सिरे से शुरू होगा। इस बार सेना से उम्मीदें भी ज्यादा हैं, इसलिए पिछले कुछ दिनों में जिस तरह से घाटी में परिस्थितियां बनी हैं उनसे पार पाना आसान नहीं होगा। सेना के लिए आने वाले दिनों में अब तीन मोर्चों पर खुद को मजबूती से पेश करना होगा-:

1. अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा

ईद के पवित्र त्योहार के बाद अब सेना और सरकार के लिए अगला बड़ा लक्ष्य है शांतिपूर्ण तरीके से अमरनाथ यात्रा को पूरा करवाना। अमरनाथ यात्रा हमेशा से ही आतंकियों के निशाने पर रही है, 28 जून से शुरू हो रही इस यात्रा के लिए कई तरह के अलर्ट भी जारी हैं। हाल ही में आई इंटेलीजेंस की एक रिपोर्ट की मानें, लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद के करीब 450 पाकिस्तानी आंतकी सीमा पार अमरनाथ यात्रा को अपना निशाना बनाने के लिए तैयार बैठे हैं।

2. आतंकियों का नया पैंतरा, लोकल ही निशाने पर

आतंकियों की ओर से पहले घाटी में सीधा सुरक्षाबलों पर निशाना साधा जाता था, लेकिन पिछले कुछ दिनों में लोकल पर भी निशाना बनाना शुरू किया गया है। पत्रकार शुजात बुखारी, जवान औरंगजेब और इसके अलावा रविवार को ही एक आम नागरिक को गोली मारी गई। इसके अलावा भी रविवार को एक छोटा धमाका हुआ। सेना के सामने मुश्किल ये ही आतंकियों के इस हमले से स्थानीय लोगों को किस तरह बचाया जाए और इनमें भी वो लोग आतंकियों के निशाने पर हैं जो हर मोर्चे पर सेना के साथ खड़े होते नज़र आए हैं।   

3. घर के बाद बॉर्डर को भी रखना है सुरक्षित

जम्मू-कश्मीर में सेना के लिए दोहरे मोर्चे पर कई चुनौतियां हैं। एक ओर जहां राज्य में हो रहे आतंकियों के हमले से पार पाना है तो वहीं बॉर्डर पर पाकिस्तान की ओर से किए जा रहे सीज़फायर पर भी रोक लगानी है। पाकिस्तान ने पिछले कई दिनों में बॉर्डर पर अंधाधुंध फायरिंग कर रहा है, यही कारण है कि अंतरराष्ट्रीय सीमा और एलओसी से कई स्थानीय निवासियों को हटाना भी पड़ा है। बॉर्डर पर पाकिस्तान की ओर से लगातार की जा रही फायरिंग का ही कारण रहा जो इस बार ईद पर जवानों के बीच मिठाई नहीं बंटी। गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने आतंकियों द्वारा जारी हिंसा के बीच रविवार को जम्मू एवं कश्मीर में घोषित एकतरफा संघर्षविराम को विस्तार न देने का फैसला किया है। यह संघर्षविराम रमजान के पाक महीने के दौरान राज्य में 16 मई को घोषित किया गया था। बता दें कि 17 मई से 14 जून के बीच जम्मू-कश्मीर में कुल 62 आतंकी घटनाएं हुईं।

News Next

हितेश पचार@चिड़ावा( झुन्झुनू)। चिड़ावा क्षेत्र के ग्राम खुडो़त में आयोजित प्रोग्राम के दौरान गाँव मे बने नए थ्री फेस ट्यूबवैल का विधिवत शुभारंभ व पट्टिका का शिलान्यास

सुरेश धवल@जालोर। जालोर शहर के श्री हलदेश्वर महादेव स्वरूपराजी रोड़ पर हिंदुआ सूरज वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप की जयंती पर हिन्दू युवा संगठन संस्था की ओर से संगोष्ठी

Previous News

भवानीसिंह चारण@नाडोल(पाली)। टीवी अभिनेता व तारक मेहता का उल्टा चश्मा के शैलेष लोढ़ा शुक्रवार की शाम को अपने परिवार सहित नाडोल पहुंचे। जहा उन्होंने आशापुरा माता के मंदिर

गोविंद भार्गव@सुरतगढ़(श्री गंगानगर)। टैगोर पीजी कॉलेज सूरतगढ़ के प्रांगण में काव्य संग्रह सफर पुस्तक का लोकार्पण भव्य तरीके से व पूजा अर्चना के साथ शुरू किया गया।

Thought Of The Day

"साहस मानवीय गुणों में प्रमुख है क्योंकि ….ये वो गुण है जो बाकी सभी गुणों की गारंटी देता है "

विंस्टन चर्चिल


राशिफल
  • Pisces (मीन)

  • Aquarius (कुंभ)

  • Capricorn (मकर)

  • Sagittarius (धनु)

  • Scorpio (वृश्चिक)

  • Libra (तुला)

  • Virgo (कन्या)

  • Leo (सिंह)

  • Cancer (कर्क)

  • Gemini (मिथुन)

  • TAURUS (वृष)

  • ARIES (मेष)

poll

राजस्थान में किसकी सरकार आनी चाहिए ?