मॉनसून सत्र का आज आखिरी दिन, 3 संशोधनों के साथ राज्यसभा में पेश होगा 3 तलाक बिल

Aug 10,2018, 10:08 AM

नई दिल्ली: 14वीं लोकसभा के आखिरी मानसून सत्र का आज आखिरी दिन है. संसद में तीन तलाक बिल पर पर हंगामा हो सकता है. इस बिल को आज राज्यसभा में चर्चा के लिए लाया जाएगा. बिल के प्रावधानों का विरोध कर रहे विपक्ष दल इसपर जमकर हंगामा करेंगे. बीजेपी ने अपने सभी सांसदों को सदन में उपस्थित रहने के लिए व्हिप जारी किया है. इसी को भांपते हुए कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने सोनिया गांधी पर हमला करते हुए पूछा कि कांग्रेस बिल का समर्थन करेगी या नहीं ? तीन तलाक़ बिल लोकसभा में पारित होने के बाद विरोध के चलते राज्यसभा में लंबित पड़ा है.

किन संशोधनों के साथ आया बिल-गुरुवार को हुई कैबिनेट की बैठक में मोदी सरकार ने संसद में लंबित तीन तलाक़ बिल में तीन अहम बदलाव को मंज़ूरी दे दी. इसके मुताबिक अपराध अब सिर्फ पत्नी या उसके खून के रिश्तेदार या ससुराल पक्ष के रिश्तेदार ही एफआईआर दर्ज करा सकते हैं. इससे पड़ोसी या अन्य रिश्तेदार एफआईआर नहीं करवा सकते.

दूसरे बदलाव के मुताबिक अगर पति और पत्नी मजिस्ट्रेट के सामने समझौते के लिए तैयार हों तो मजिस्ट्रेट समझौता कबूल कर सकता है यानि समझौते की गुंजाइश छोड़ी गई है. इसमें मजिस्ट्रेट जुर्माना तय करेगा. तीसरे बदलाव के मुताबिक तीन तलाक़ के आरोपी को पत्नी का पक्ष सुनने के बाद मजिस्ट्रेट ज़मानत दे सकता है, थाने से जमानत नहीं मिलेगी.

कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कह, ''कांग्रेस का इस बात पर विरोध बेमतलब है कि बार-बार पति जेल जाएगा तो घर में कौन कमाने वाला रहेगा. दहेज उत्पीड़न कानून, घरेलू हिंसा मामले में भी तो मुसलमान पति जेल जाता है, उस पर कांग्रेस पार्टी सवाल क्यों नहीं पूछती है. कांग्रेस पार्टी इस सवाल पर अपना रुख स्पष्ट करे. देश की बड़ी नेता हैं.''

रविशंकर प्रसाद ने कहा, ''सोनिया गांधी देश की बड़ी नेता हैं, उनके पास विरासत है जिसका वे बार-बार जिक्र करती हैं. क्या नारी न्याय, नारी गरिमा और नारी सम्मान के लिए आप खड़ी होंगी या नहीं होंगी. कांग्रेस पार्टी इस बिल का विरोध करती रहेगी?''

कोर्ट के फैसले के बाद 160 केस आए-कानून मंत्री ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद दिसंबर तक तीन तलाक के 160 केस आए. मंत्री के मुताबिक 2017 में कुल 389 केस आए, इनमें 229 केस जनवरी से अगस्त के बीच आए. मंत्री ने कहा कि आंकड़ों से साफ है कि गैरकानूनी बताने के बाद भी कानून जरूरी है.

सुप्रीम कोर्ट ने कहा था- कानून बनाए सरकार-सुप्रीम कोर्ट में पिछले साल अगस्त के महीने में पांच जजों की बेंच ने एक बार में तीन तलाक को असंवैधानिक और गैरकानूनी करार दिया था. तीन-दो के बहुमत से आए इस फैसले ने सरकार ने इसके खिलाफ कानून बनाने को कहा था. पांच जजों  की बेंच इसपर एकमत नही थी. दो जज इसे पूरी तरह खारिज करने के पक्ष में नही थे. उनका मत था कि ये अनुच्छेद 25 के तहत धार्मिक स्वतंत्रता के अधिकार के दायरे में आता है. लेकिन 3 जजों ने इसे संवैधानिक अधिकारों का उल्लंधन माना इसलिए बहुमत से ये गैरकानूनी करार दिया गया.

News Next

मुंबई: मुंबई से सटे पालघर के नालासोपारा पश्चिम स्थित भंडार अली इलाके में गुरुवार देर शाम महाराष्ट्र एटीएस ने छापेमारी की। एटीएस की कार्रवाई शुक्रवार सुबह तक जारी रही।

अलीम खान@जयपुर।अपराजित फाउंडेशन की और से दुर्गापुरा महारानी फार्म स्थित ब्लैक साल्ट रेस्टोरेंट में लहरिया उत्सव  २०१५ का आयोजन हुआ। आयोजक  हर्षिता शर्मा ने बताया कि

Previous News

विक्रम सिंह@तवाव(जालोर)तवाव निकटवर्ती मोदरान में प्रधानमंत्री मातृ शिशु योजना के तहत गर्भवती महिलाओं के जांच के लिए गुरुवार को मोदरान मे स्थित आदर्श राजकीय प्राथमिक

संजय शर्मा@फुलेरा(जयपुर)फुलेरा आबकारी पुलिस ने कार्रवाई करते हुए सांभर के रेलवे फाटक के पास से एक जने को अवैध देशी शराब के पव्वों के साथ गिरफ्तार कर मोटरसाईकिल जब्त की।

Thought Of The Day

"साहस मानवीय गुणों में प्रमुख है क्योंकि ….ये वो गुण है जो बाकी सभी गुणों की गारंटी देता है "

विंस्टन चर्चिल


राशिफल
  • Pisces (मीन)

  • Aquarius (कुंभ)

  • Capricorn (मकर)

  • Sagittarius (धनु)

  • Scorpio (वृश्चिक)

  • Libra (तुला)

  • Virgo (कन्या)

  • Leo (सिंह)

  • Cancer (कर्क)

  • Gemini (मिथुन)

  • TAURUS (वृष)

  • ARIES (मेष)

poll

राजस्थान में किसकी सरकार आनी चाहिए ?