2019 के चुनाव के बाद पूरे देश में लागू होगा एनआरसी : माथुर

Aug 13,2018, 13:08 PM

नई दिल्ली: राष्ट्रीय नागरिक पंजीकरण रजिस्टर यानी एनआरसी के मुद्दे पर पूरे देश में बहस छिड़ी हुई है. बीजेपी विरोधियों पर घुसपैठियों का साथ देने का आरोप लगा रही है वहीं विपक्ष का आरोप है कि बीजेपी वोटबैंक के लिए ये सब कुछ कर रही है. अब इस मामले पर बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ओम माथुर ने बड़ा बयान दिया है. ओम माथुर ने कहा कि 2019 में सत्ता में आने के बाद एनआरसी को पूरे देश में लागू किया जायेगा. उन्होंने कहा कि किसी भी सूरत में देश को धर्मशाला नहीं बनने देंगे.

राजस्थान के झुंझनू में मीडिया से बात करते हुए ओम माथुर ने कहा, ''कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अपने परिवार के प्रति भी वफादार नहीं है क्योंकि एनआरसी की शुरूआत तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने ही की थी लेकिन कांग्रेस दस साल के कार्यकाल में एनआरसी को लागू करने की हिम्मत नहीं जुटा सकी.''

उन्होंने कहा, ''घुसपैठियों की समस्या पूरा देश भुगत रहा है, ऐसा कोई बड़ा शहर और कस्बा नहीं है जहां बांग्लादेशी घुसपैठिए नहीं हैं. एनआरसी को अभी सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर सिर्फ असम में लागू किया गया है लेकिन 2019 में चुनाव के बाद इसे पूरे देश में लागू किया जायेगा.''

रविवार को उत्तर प्रदेश के मेरठ में बीजेपी प्रदेश कार्यकारिणी में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा था कि 2019 में नागरिकता बड़ा मुद्दा रहेगा लेकिन सरकार हिंदू शरणार्थियों को नहीं सताएगी. एनआरसी पर बोलते हुए अमित शाह ने साफ कर दिया कि ये 2019 आम चुनाव में बीजेपी के अहम मुद्दों में से एक होगा. अमित शाह ने ये भी बताया कि सरकारी योजनाओं के बारे में लोगों तक जानकारी पहुंचाई जाएगी और एक बार फिर मोदी के नाम पर ही चुनाव लड़ा जाएगा.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कांग्रेस ने वोट बैंक पॉलिटिक्स के चलते एनआरसी को लागू करने में रुचि नहीं दिखाई लेकिन हमारी सरकार ने एनआरसी लागू करने में सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के मुताबिक काम किया है.

उन्होंन कहा कि फिलहाल ड्राफ्ट लिस्ट जारी हुई है और लोगों को दूसरा मौका भी दिया जा रहा है तो विपक्ष को इसको लेकर भ्रम फैलाना बंद करना चाहिए. किसी भी भारतीय नागरिक को देश नहीं छोड़ना पड़ेगा. उन्होंने भरोसा दिलाया कि जिन लोगों का नाम लिस्ट में नहीं है उन्हें उनकी नागरिकता साबित करने का पूरा मौका दिया जाएगा.

सरकार ने असम में अवैध रूप से रह रहे लोगों को निकालने के लिए सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन्स (एनआरसी) अभियान चलाया है. असम में करीब 50 लाख बांग्लादेशी गैरकानूनी तरीके से रह रहे हैं. इनके कारण असम में कई सामजिक-आर्थिक समस्याएं बनी हुई हैं जिन्हें दूर करने के लिए ये एनआरसी का अभियान चलाया जा रहा है.

31 जुलाई को असम में नेशनल रजिस्टर फॉर सिटीजन की दूसरा और फाइनल ड्राफ्ट जारी किया गया. इसके मुताबिक कुल 3.29 करोड़ में से 2.89 करोड़ लोगों को नागरिकता के योग्य पाया गया है. वहीं करीब 40 लाख लोगों के नाम इसमें नहीं हैं. NRC का पहला मसौदा 1 जनवरी को जारी किया गया था, जिसमें 1.9 करोड़ लोगों के नाम थे. दूसरे ड्राफ्ट में पहली लिस्ट से भी काफी नाम हटाए गए हैं.

News Next

मुजफ्फरपुर के एक शेल्टर होम में रेप कांड के बाद पटना के एक शेल्टर होम में संदिग्ध स्थितियों में 2 लड़कियों की मौत का मामला सामने आया है. पुलिस मामले की जांच कर रही है और

सूरज सोनी@बावड़ी(जोधपुर)क्षेत्र के नांदिया कला ग्राम में भारतीय स्वर्णकार संघ व स्वर्णकार समाज बावड़ी के संयुक्त तत्वाधान से स्वर्णकार  समाज के कारीगरों के हस्तशिल्प

Previous News

विक्रम दर्जी@लाठी(जैसलमेर) लाठी राष्ट्रीय पर्व स्वतंत्रता दिवस पर 14 अगस्त को प्रदेश के अंतरराष्ट्रीय सीमा से सटे जैसलमेर जिले में शहादत को सलाम कार्यक्रम के तहत सरहद की

महेश बागड़ा@हरमाड़ा(जयपुर)हरमाड़ा वर्गो सांस्कृतिक संस्था की ओर से  सोमवार को जयपुर विश्वकर्मा रोड नंबर 17  स्थित लक्ष्मी शिक्षण संस्थान सीनियर सेकेंडरी स्कूल

Thought Of The Day

"साहस मानवीय गुणों में प्रमुख है क्योंकि ….ये वो गुण है जो बाकी सभी गुणों की गारंटी देता है "

विंस्टन चर्चिल


राशिफल
  • Pisces (मीन)

  • Aquarius (कुंभ)

  • Capricorn (मकर)

  • Sagittarius (धनु)

  • Scorpio (वृश्चिक)

  • Libra (तुला)

  • Virgo (कन्या)

  • Leo (सिंह)

  • Cancer (कर्क)

  • Gemini (मिथुन)

  • TAURUS (वृष)

  • ARIES (मेष)

poll

राजस्थान में किसकी सरकार आनी चाहिए ?