पशु मेला जिसके दीवाने दुनिया भर से आते हैं, देखे तस्वीरें

Nov 19,2018, 18:11 PM

देवोत्थान एकादशी के मौके पर पुष्कर सरोवर में पंचतीर्थ के पहले स्नान के साथ ही विश्व विख्यात पुष्कर मेला शुरू हो गया है. पांच दिवसीय इस सालाना धार्मिक मेले का समापन 23 नवंबर को सरोवर में कार्तिक पूर्णिमा पर होने वाले महास्नान के साथ होगा. 16 नवंबर से 23 नवंबर तक चलने वाले इस साल दिवसीय मेले को दुनिया के सबसे बड़े पशुमेले या पुष्कर कैमल फेयर (ऊंट मेला)  के नाम से भी जाना जाता है. 16 नवंबर से 23 नवंबर तक चलने वाले इस साल दिवसीय मेले को दुनिया के सबसे बड़े पशुमेले या पुष्कर कैमल फेयर (ऊंट मेला)  के नाम से भी जाना जाता है.

16 नवंबर से 23 नवंबर तक चलने वाले इस साल दिवसीय मेले को दुनिया के सबसे बड़े पशुमेले या पुष्कर कैमल फेयर (ऊंट मेला)  के नाम से भी जाना जाता है. इस मेले में देश-विदेश से लाखों सैलानी और तीर्थयात्री जगतपिता ब्रह्मा की नगरी पहुंचते हैं. मेले के दौरान विभिन्न सांस्कृतिक और आध्यात्मिक कार्यक्रम भी आयोजित किए जाते हैं.  इस मेले में देश-विदेश से लाखों सैलानी और तीर्थयात्री जगतपिता ब्रह्मा की नगरी पहुंचते हैं. मेले के दौरान विभिन्न सांस्कृतिक और आध्यात्मिक कार्यक्रम भी आयोजित किए जाते हैं. इस मेले में देश-विदेश से लाखों सैलानी और तीर्थयात्री जगतपिता ब्रह्मा की नगरी पहुंचते हैं. मेले के दौरान विभिन्न सांस्कृतिक और आध्यात्मिक कार्यक्रम भी आयोजित किए जाते हैं.

ऐसा माना जाता है कि कार्तिक शुक्ला एकादशी से पूर्णिमा तक जगत पिता ब्रह्मा ने पुष्कर सरोवर में सृष्टि यज्ञ किया था. जिसके बाद से ऐसी घार्मिक मान्यताएं हैं कि इन पांच दिनों तक सभी तैंतीस करोड़ देवी-देवता अंतरिक्ष की जगह पुष्कर सरोवर में रहते हैं. ऐसा माना जाता है कि कार्तिक शुक्ला एकादशी से पूर्णिमा तक जगत पिता ब्रह्मा ने पुष्कर सरोवर में सृष्टि यज्ञ किया था. जिसके बाद से ऐसी घार्मिक मान्यताएं हैं कि इन पांच दिनों तक सभी तैंतीस करोड़ देवी-देवता अंतरिक्ष की जगह पुष्कर सरोवर में रहते हैं. ऐसा माना जाता है कि कार्तिक शुक्ला एकादशी से पूर्णिमा तक जगत पिता ब्रह्मा ने पुष्कर सरोवर में सृष्टि यज्ञ किया था. जिसके बाद से ऐसी घार्मिक मान्यताएं हैं कि इन पांच दिनों तक सभी तैंतीस करोड़ देवी-देवता अंतरिक्ष की जगह पुष्कर सरोवर में रहते हैं.

इस मेले में ऊंट करतब दिखा कर पर्यटकों का मनोरंजन करते है. इसके अलावा अलग-अलग नस्ल वाले पशु भी इस मेले लोगों के आकर्षण का केन्द्र होते हैं. पुष्कर मेला विदेशी सैलानियों के लिए आर्कषण का खास केन्द्र होता है. ऊंट की सवारी से लेकर राजस्थानी रंगों में घुलमिल जाने के लिए विदेशी मेहमानों में होड़ रहती है. इस मेले में ऊंट करतब दिखा कर पर्यटकों का मनोरंजन करते है. इसके अलावा अलग-अलग नस्ल वाले पशु भी इस मेले लोगों के आकर्षण का केन्द्र होते हैं. पुष्कर मेला विदेशी सैलानियों के लिए आर्कषण का खास केन्द्र होता है. ऊंट की सवारी से लेकर राजस्थानी रंगों में घुलमिल जाने के लिए विदेशी मेहमानों में होड़ रहती है.

इस मेले में ऊंट करतब दिखा कर पर्यटकों का मनोरंजन करते है. इसके अलावा अलग-अलग नस्ल वाले पशु भी इस मेले लोगों के आकर्षण का केन्द्र होते हैं. पुष्कर मेला विदेशी सैलानियों के लिए आर्कषण का खास केन्द्र होता है. ऊंट की सवारी से लेकर राजस्थानी रंगों में घुलमिल जाने के लिए विदेशी मेहमानों में होड़ रहती है.

सुरक्षा के लिहाज से पुष्कर मेला काफी संवेदनशील भी रहता है. यहां इजरायली धर्मस्थल बेदखबाद भी है, जिसको लेकर समय-समय पर सुरक्षा अलर्ट भी जारी होती है. लिहाजा, पुलिस भी अपनी तरफ से सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त करती है और आसपास के जिलों से भी अतिरिक्त जाब्ता बुलाया है, जिससे इस मेले पर किसी तरह का व्यवधान ना हो. सुरक्षा के लिहाज से पुष्कर मेला काफी संवेदनशील भी रहता है. यहां इजरायली धर्मस्थल बेदखबाद भी है, जिसको लेकर समय-समय पर सुरक्षा अलर्ट भी जारी होती है. लिहाजा, पुलिस भी अपनी तरफ से सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त करती है और आसपास के जिलों से भी अतिरिक्त जाब्ता बुलाया है, जिससे इस मेले पर किसी तरह का व्यवधान ना हो.

सुरक्षा के लिहाज से पुष्कर मेला काफी संवेदनशील भी रहता है. यहां इजरायली धर्मस्थल बेदखबाद भी है, जिसको लेकर समय-समय पर सुरक्षा अलर्ट भी जारी होती है. लिहाजा, पुलिस भी अपनी तरफ से सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त करती है और आसपास के जिलों से भी अतिरिक्त जाब्ता बुलाया है, जिससे इस मेले पर किसी तरह का व्यवधान ना हो.

पुष्कर मेला अपनी तीन विशेषताओं के लिए अलग ही पहचान रखता है. रेतीले धोरों में सरपट दौड़ लगाते रेगिस्तानी जहाज ऊंट की सवारी के लिए विदेशी मेहमानों में होड़ रहती है, तो वहीं सांस्कृतिक विरासत को समेटे पुष्कर की आध्यात्मिक महत्वता भी सभी तीर्थों से बढ़कर है. पुष्कर मेला अपनी तीन विशेषताओं के लिए अलग ही पहचान रखता है. रेतीले धोरों में सरपट दौड़ लगाते रेगिस्तानी जहाज ऊंट की सवारी के लिए विदेशी मेहमानों में होड़ रहती है, तो वहीं सांस्कृतिक विरासत को समेटे पुष्कर की आध्यात्मिक महत्वता भी सभी तीर्थों से बढ़कर है.

पुष्कर मेला अपनी तीन विशेषताओं के लिए अलग ही पहचान रखता है. रेतीले धोरों में सरपट दौड़ लगाते रेगिस्तानी जहाज ऊंट की सवारी के लिए विदेशी मेहमानों में होड़ रहती है, तो वहीं सांस्कृतिक विरासत को समेटे पुष्कर की आध्यात्मिक महत्वता भी सभी तीर्थों से बढ़कर है.

इस मेले को तीन चरणों में विभाजित किया जाता है, जिसमें सबसे पहले पशु मेला शामिल है. दूसरे चरण में पर्यटन के लिहाज से सांस्कृतिक गतिविधियों का केन्द्र और तीसरा इसका आध्यात्मिक रुप, जहां कार्तिक एकादशी से लेकर पूर्णिमा तक पंचतीर्थ स्नान होगा  इस मेले को तीन चरणों में विभाजित किया जाता है, जिसमें सबसे पहले पशु मेला शामिल है. दूसरे चरण में पर्यटन के लिहाज से सांस्कृतिक गतिविधियों का केन्द्र और तीसरा इसका आध्यात्मिक रुप, जहां कार्तिक एकादशी से लेकर पूर्णिमा तक पंचतीर्थ स्नान होगा.  इस मेले को तीन चरणों में विभाजित किया जाता है, जिसमें सबसे पहले पशु मेला शामिल है. दूसरे चरण में पर्यटन के लिहाज से सांस्कृतिक गतिविधियों का केन्द्र और तीसरा इसका आध्यात्मिक रुप, जहां कार्तिक एकादशी से लेकर पूर्णिमा तक पंचतीर्थ स्नान होगा.

मेले में रंगारंग कार्यक्रम, प्रदर्शनी और कई तरह की प्रतियोगिताएं भी होती हैं. इसमें भाग लेने के लिए देश-विदेश से टूरिस्ट्स आते हैं  मेले में रंगारंग कार्यक्रम, प्रदर्शनी और कई तरह की प्रतियोगिताएं भी होती हैं. इसमें भाग लेने के लिए देश-विदेश से टूरिस्ट्स आते हैं

मेले में रंगारंग कार्यक्रम, प्रदर्शनी और कई तरह की प्रतियोगिताएं भी होती हैं. इसमें भाग लेने के लिए देश-विदेश से टूरिस्ट्स आते हैं

News Next

महाराष्ट्र के वर्धा में सेना के हथियार डिपो में जबरदस्त धमाके की खबर है. इस घटना में 4 लोगों की मौत हो गई है और 6 लोग घायल हैं. विस्तृत जानकारी का इंतजार है. धमाका मंगलवार सुबह

सूरतगढ़   : वार्ड नम्वर 35 में तीन दिन पूर्व तीन जनो के हमले से हसिल हुई नाबालिग युवती ने होश में आने पर पुलिस को बयां दिया है बयान में युवती ने तीन जनो के नाम बताए है ज्ञायल

Previous News

नागौर/ मेड़ता : भाजपा से टिकट की मांग कर रहे नागौर जिला से मीडिया प्रभारी जगदीश नायक ने भाजपा से त्यागपत्र देने के बाद आज अपना नामांकन आम आदमी पार्टी से भरा भारी संख्या में

चंद्रमोहन शर्मा @ जयपुर / बस्सी : बस्सी विधानसभा : क्षेत्र से भारत  वाहिनी पार्टी के उम्मीदवार शीला मीणा ने अपने युवा और एक मजबूत, काफिले के साथ  में नामांकन भरा। तथा

Thought Of The Day

"साहस मानवीय गुणों में प्रमुख है क्योंकि ….ये वो गुण है जो बाकी सभी गुणों की गारंटी देता है "

विंस्टन चर्चिल


राशिफल
  • Pisces (मीन)

  • Aquarius (कुंभ)

  • Capricorn (मकर)

  • Sagittarius (धनु)

  • Scorpio (वृश्चिक)

  • Libra (तुला)

  • Virgo (कन्या)

  • Leo (सिंह)

  • Cancer (कर्क)

  • Gemini (मिथुन)

  • TAURUS (वृष)

  • ARIES (मेष)

poll

राजस्थान में किसकी सरकार आनी चाहिए ?