आज के डिजिटल युग में आधार कार्ड सबसे जरूरी दस्तावेज बन गया है. छोटे-बड़े सभी कामों में आधार कार्ड का प्रयोग होने लगा है. चाहे ट्रेन का टिकट बनवाना हो, स्कूल या कॉलेज में एडमिशन करवाना हो, बैंक में अकाउंट खुलवाना हो या कहीं ऑनलाइन रजिस्टर करना हो, सभी के लिए आधार के 12 डिजिट नंबर की जरूरत पड़ती है.

अगर आपका बच्चा 5 साल से कम की उम्र का है. तो आपको उसके लिए भी आधार कार्ड बनवाना होगा यह नीले रंग का कार्ड होगा, जिसे बाल आधार कार्ड (Baal aadhar card) कहा जाता है. जब बच्चे की उम्र 5 साल से ऊपर हो जाएगी, तब यह कार्ड अवैध हो जाएगा कार्ड अवैध होने के बाद बच्चे को फिर से नया आधार कार्ड बनवाना होगा जिसके लिए माता-पिता के दस्तावेज लगाए जाएंगे.

बाल आधार कार्ड के लिए बच्चे का जन्म प्रमाण पत्र, माता व पिता का आधार कार्ड, मोबाइल नंबर, पते का प्रमाण और बच्चे की पासपोर्ट साइज फोटो की आवश्यकता होगी.

आपको बता दें कि बाल आधार कार्ड में बच्चे का बायोमेट्रिक या आयरिश स्केन नहीं किया जाएगा, क्योंकि छोटे बच्चों में बायोमेट्रिक डेवलप नहीं होते हैं. इसकी जगह बच्चे के माता-पिता के दस्तावेज लगाए जाएंगे बाल आधार कार्ड के लिए आवेदक भारतीय निवासी होना चाहिए और उसकी उम्र 5 साल से कम होनी चाहिए.