जयपुर. कोरोना संकट के दौर में राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (Rajasthan Board of Secondary Education) की दसवीं और बारहवीं की परीक्षा रद्द होने के बाद अब इन दोनों कक्षाओं के परिणाम जारी करने पर मंथन किया जा रहा है. इस संबंध में बनी कमेटी की मंगलवार को शिक्षा संकुल में लगातार दूसरे दिन बैठक हुई. इसमें परिणामों को जारी करने के फार्मूले पर मंथन किया गया. बैठक में रिपोर्ट को अंतिम रूप देने के बाद रिपोर्ट सरकार को सौंप दी गई. अब आगामी दिनों में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Chief Minister Ashok Gehlot) इस पर अंतिम फैसला लेंगे.

शिक्षा विभाग के सूत्रों का कहना है कि राजस्थान बोर्ड की दसवीं और बारहवीं कक्षा का परिणाम विद्यार्थियों की पिछली कक्षाओं के परिणाम के आधार पर जारी किया जा सकता है. इसके लिए सीबीएसई के फार्मूले का भी अध्ययन किया गया है, लेकिन सीबीएसई के फार्मूले को यहां जैसे का तैसा लागू होने में अड़चन हैं, क्योंकि प्रदेश में प्री-बोर्ड और अर्धवार्षिक परीक्षा हो नहीं पाई है.

10वीं कक्षा का परिणाम जारी करने के लिए विद्यार्थियों के आठवीं कक्षा के अंक और 2020 में नौवीं कक्षा के तीन टेस्ट और अर्धवार्षिक परीक्षा के अंकों को आधार बनाने का सुझाव इस कमेटी ने दिया है. 12वीं कक्षा के परीक्षार्थियों का परिणाम 10वीं कक्षा के अंक और 2020 में हुई 11वीं कक्षा के तीनों टेस्ट और अर्धवार्षिक परीक्षा के अंकों के आधार पर परिणाम जारी करने का सुझाव दिया गया है. ऐसे में इन्हीं के आधार पर दसवीं और बारहवीं का परिणाम तैयार हो सकता है. यह भी हो सकता है कि दसवीं और बारहवीं कक्षा के परिणामों पर एकसाथ फैसला आ सकता है.